एल्बर्ट अब्राहम मिशेलसन की जीवन शिक्षा पर चर्चा करे!

By | September 4, 2019

एल्बर्ट मिचेलसन का जन्म प्रशिया के स्ट्रेनलो शहर में हुआ था। उनके माता-पिता जर्मन यहूदी थे। मिचेलसन-परिवार जब न्यूयॉर्क सिटी में पहुंचा उस समय एल्बर्टव्सिर्फ दो साल के थे! कुछ समय पूर्वी प्रदेश में रहने के पश्चात मिचेलसन परिवार कैल्फिोर्निया जा बसा। जहां एक स्थानीय स्कूल में एल्बर्ट की शिक्षा आरम्भ हुई। फिर हाईस्कूल की पढ़ाई के लिए उन्हें सैन फ्रांसिसको भेज दिया गया। यहां उनकी प्रतिभा गणित और विज्ञान में चमक उठी। प्रयोगशाला की अच्छी समझ के फलस्वरूप उन्हें पंद्रह रुपए महीने में स्कूल के वैज्ञानिक उपकरणों की देखभाल के लिए चुन लिया गया!

एल्बर्ट जब 16 साल के हुए उनका परिवार उठकर वर्जीनिया सिटी (निवादा) आ गया। उन दिनों यहां चांदी की खुदाई खूब चल रही थी। एक साल के बाद घर में उसके एक भाई चार्ली, ने जन्म लिया और अगले साल एक बहन मिरियम जन्मी!चार्ली मिचेलसन ने भी आगे चलकर राष्ट्रपति फ्रेंकलिन डी. रूजवेल्ट के शासन काल में डेमॉक्रेटिक पार्टी के पब्लिसिटी डायरेक्टर के तौर पर काफी नाम कमाया!

1973 में मिचेलसन नेवल एकेडमी से ग्रेजुएट हुए। तब तक वे अमरीका की नेवी में दो साल एक ‘हॅन्साइन’ के तौर पर काम कर भी चुके थे। अब उन्हें भौतिकी तथा रसायन पढ़ाने के लिए एकेडमी में ही वापस बुला लिया गया। यहां अध्यापन-कार्य करते हुए उनका रुझान प्रकाश के अध्ययन की ओर हुआ। फोकॉल्ट के घूर्णक दर्पण की विधि को प्रयोग में लाते हुए वह एकेडमी की प्रयोगशाला में उपलब्ध लेंसो की ये केवल 500 फुट की दूरी के अंदर ही प्रकाश की गति की एकदम सही गणना करने में सफल हुए। उनका यह प्रयोग 1878 के अमरीकन जर्नल ऑफ साइन्स में प्रकाशित हुआ जिसका शीर्षक था—प्रकाश की गति को मापने का एक तरीका! इस प्रयोग के लिए उन्होंने एक उपकरण का आविष्कार किया जिसे इंटरफेरोमीटर या अवरोध मापक कहा जाता है। इस उपकरण की मदद से वे प्रकाश का तरंगदेध्ये मापने में सफल हो सके!

1926 में मिचेलसन ने प्रकाश की गति की गणना के सम्बंध में अपना सर्व-प्रसिद्ध परीक्षण किया। उनकी गणना का आधार यहां भी, फोकॉल्ट के घूर्णक दर्पण का सिद्ध आंत ही था। कैलिफोर्निया में माउंट विल्सन की चोटी पर एक प्रयोगशाला स्थापित की गई। 22 मील दूर माउंट सान एन्तोनियो पर एक दर्पण की प्रतिष्ठा हुई। इन दो बिंदुओं के अंतर को ‘यूनाइटेड स्टेट्स कोस्ट एंड जिओडेटिक सर्वे’ ने अद्भुत कुशलता के साथ नापा! इन परीक्षणों के दौरान मिचेलसन अस्वस्थ्य थे, किंतु धैर्यपूर्वक उन्होंने अंत तक इस परीक्षण को पूरा किया। दिमाग की एक नस फट जाने से 79 वर्ष की आयु में उनकी मृत्यु हो गई!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *